पीएम कुसुम योजना यूपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023: एप्लीकेशन फॉर्म, पात्रता लाभ एवं विशेषताएं देखें!

WhatsApp Group Join Now
YouTube Subscribe
Telegram Group JOIN NOW

पीएम कुसुम योजना यूपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023: एप्लीकेशन फॉर्म, ऑनलाइन अप्लाई, सौर पंप योजना, पात्रता लाभ एवं विशेषताएं, पीएम कुसुम सौर पंप योजना के कॉम्पोनेंट्स देखें!

कुसुम योजना का मुख्य उद्देश्य है किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप प्रदान करके सिंचाई की सुविधा पहुंचाना। इस योजना के तहत, केंद्र सरकार और राजस्थान राज्य सरकार 3 करोड़ पेट्रोल और डीजल सिचाई पंपों को सौर ऊर्जा पंपों में बदलने का काम करेंगे। अब वे किसान भाइयों जो सिचाई पंपों को डीज़ल या पेट्रोल से चलाते हैं, उन्हें कुसुम योजना के अंतर्गत सौर ऊर्जा से चलाने का लाभ मिलेगा। इस योजना के पहले चरण में, देश के 1.75 लाख पंपों को सोलर पैनल की सहायता से चलाया जाएगा।

पीएम कुसुम योजना यूपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023: एप्लीकेशन फॉर्म, पात्रता लाभ एवं विशेषताएं देखें!
पीएम कुसुम योजना यूपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023: ए

पीएम कुसुम योजना 2023

Table of Contents

कुसुम योजना के तहत, राज्य सरकार ने 17.5 लाख डीज़ल पंप्स और 3 करोड़ खेती उपयोगी पंप्स को आगामी 10 वर्षों में सोलर पंप्स में परिवर्तित करने का लक्ष्य तय किया है। यह योजना राजस्थान के किसानों के लिए महत्वपूर्ण है। सरकार ने राज्य के किसानों के खेतों में सोलर पंप्स स्थापित करने और सोलर उत्पादों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रारंभिक बजट के रूप में 50 हजार करोड़ रुपयों का आवंटन किया है। इस योजना के तहत, 2020-21 में राज्य के 20 लाख किसानों को सोलर पंप्स स्थापित करने में सहायता प्रदान की जाएगी।

पीएम कुसुम योजना 2023 Details

योजना की जानकारीहिंदी में
योजना का नामपीएम कुसुम योजना 2023
किसके द्वारा शुरू की गईवित्तमंत्री श्री अरुण जेटली जी के द्वारा
शुरुआत हुई केंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थी भारत के किसान
मुख्या उद्द्येश्यकिसानों को सिंचाई करने के लिए सौर पंप प्रदान करना
साल 2023
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन / ऑफलाइन
हेल्पलाइन नंबर 1800 180 0005
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pmkusum.mnre.gov.in/
पीएम कुसुम योजना 2023 Details

पीएम कुसुम योजना क्या है?

पीएम कुसुम योजना (Pradhan Mantri Kisan Urja Suraksha evam Utthaan Mahabhiyan) एक सरकारी योजना है जो भारत सरकार द्वारा चलाई जाती है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप प्रदान करना है। इसके तहत, किसानों को सोलर पंप्स की सहायता से उनके खेतों की सिंचाई करने का विकल्प मिलता है, जिससे उनका खेती उत्पादन बढ़ता है और वे ऊर्जा की बचत कर सकते हैं।

कुसुम योजना के अंतर्गत, सरकार सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप्स की स्थापना की वित्तीय सहायता प्रदान करती है और किसानों को इसके उपयोग के लिए प्रोत्साहित करती है। इसके अलावा, योजना के तहत सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप्स की मूल्य सब्सिडी भी प्रदान की जाती है, जिससे किसानों को इन पंप्स को सस्ते में खरीदने में मदद मिलती है।

कुसुम योजना का उद्घाटन 2018 में किया गया था, और यह किसानों को ऊर्जा सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे उनकी खेती और आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है।

कुसुम योजना का उद्देश्य

कुसुम योजना (Pradhan Mantri Kisan Urja Suraksha evam Utthaan Mahabhiyan) का मुख्य उद्देश्य है किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप प्रदान करना और इसके माध्यम से निम्नलिखित लक्ष्यों को प्राप्त करना –

  • सिंचाई का सुधार: यह योजना किसानों को सौर ऊर्जा पर आधारित सोलर पंप्स की मदद से उनके खेतों की सिंचाई करने का अवसर प्रदान करती है। इससे किसान अधिक उत्पादन दर्ज कर सकते हैं और कृषि कार्यों में सुधार हो सकता है।
  • ऊर्जा सुरक्षा: कुसुम योजना के तहत किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप्स का उपयोग करके अनियमित बिजली आपूर्ति के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करती है।
  • जलवायु परिवर्तन का समर्थन: सौर ऊर्जा का प्रयोग करने से उर्जा की सदस्यता में कमी होती है, जिससे जलवायु परिवर्तन के साथ मिलकर अधिक साथी बनाने का योगदान किया जा सकता है।
  • किसानों की आर्थिक सुधार: सोलर पंप्स की सहायता से किसान अपने खेती के लिए ऊर्जा खर्च कम कर सकते हैं, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है।

कुल मिलाकर, कुसुम योजना का उद्देश्य है किसानों को सौर ऊर्जा के साथ समृद्धि, सिंचाई की सुविधा, और ऊर्जा सुरक्षा की ओर अग्रसर करना।

पीएम कुसुम सौर पंप योजना के कॉम्पोनेंट्स

कुसुम योजना के चार प्रमुख कॉम्पोनेंट्स –

  • सौर पंप वितरण: कुसुम योजना के पहले चरण में, केंद्र सरकार सहित विभागों का सहयोग करके सौर ऊर्जा संचालित पंप्स को सफलतापूर्वक वितरित करेगी।
  • सौर ऊर्जा कारखाने का निर्माण: सौर ऊर्जा कारखानों का निर्माण किया जाएगा, जो पर्याप्त मात्रा में बिजली उत्पादन कर सकते हैं।
  • ट्यूबवेल की स्थापना: सरकार द्वारा ट्यूबवेल की स्थापना की जाएगी, जिन्हें कुछ निश्चित मात्रा में बिजली उत्पादन करने की क्षमता होगी।
  • वर्तमान पंपों का आधुनिकरण: वर्तमान पंपों का आधुनिकरण भी किया जाएगा, जिसमें पुराने पंप्स को नए सौर पंप्स से बदला जाएगा।

कुसुम योजना के पहले चरण के तहत, ये प्लांट्स बंजर भूमियों में लगाए जाएंगे, जो 28000 मेगावाट की बिजली उत्पादन कर सकते हैं। सरकार द्वारा 17.5 लाख सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप्स किसानों को प्रथम चरण में प्रदान किए जाएंगे। इसके अलावा, बैंक किसानों को लोन के रूप में कुल खर्च का 30% अतिरिक्त वित्तीय सहायता प्रदान करेगा, जिससे किसानों को केवल अग्रिम लागत ही अदा करनी

कुसुम योजना की लाभ एवं विशेषताएं

  • सस्ते सौर सिंचाई पंप: इस योजना के तहत, सरकार रियायती मूल्य पर सौर सिंचाई पंप उपलब्ध कराएगी, जिससे किसानों को उनके खेतों की सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करने का मौका मिलेगा।
  • ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों का सोलराइजेशन: 10 लाख ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों को सोलर पंप्स में परिवर्तित करने से डीजल की खपत कम होगी और किसानों की खेती में सुधार होगा।
  • वित्तीय सहायता: सरकार द्वारा किसानों को सोलर पेनल लगाने के लिए 60% केंद्र सरकार की तरफ से वित्तीय सहायता दी जाएगी, और बैंक 30% ऋण की सहायता प्रदान करेगा, जिसके बाद केवल किसान को 10% भुगतान करना होगा।
  • सौर प्लांट का उपयोग: सोलर प्लांट लगाने से 24 घंटे बिजली उपलब्ध रहेगी, जिससे किसान अपने खेतों में सिंचाई कर सकेंगे और अतिरिक्त बिजली का उत्पादन होगा।
  • आय की वृद्धि: सोलर पेनल से प्राप्त बिजली को किसान सरकारी या गैर-सरकारी बिजली विभागों में बेच सकते हैं, जिससे उनको आय की वृद्धि का लाभ हो सकता है।
  • बंजर भूमि का उपयोग: इस योजना के अंतर्गत लगाए जाने वाले सोलर पेनल बंजर भूमि में इस्तेमाल किए जाएंगे, जिससे बंजर भूमि का उपयोग भी होगा और आय प्राप्त होगी।

पीएम कुसुम योजना 2023 पात्रता मापदंड

कुसुम योजना के अंतर्गत पात्रता के लिए निम्नलिखित मानदंड हैं

  • आवेदक को भारत में स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • यह योजना 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट क्षमता वाले सौर ऊर्जा प्लांट्स के लिए लागू होती है, और आवेदक इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • आवेदक अपनी भूमि की क्षमता के अनुपात में 2 मेगावाट या जितनी क्षमता वितरण निगम द्वारा अधिसूचित की गई है (दोनों में से कम की गई क्षमता के लिए) आवेदन कर सकते हैं।
  • प्रति मेगावाट के लिए, लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत, प्रोजेक्ट के लिए स्वयं का निवेश करने के लिए किसी भी वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है।
  • अगर आवेदक किसी विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित कर रहे हैं, तो विकासकर्ता की नेटवर्थ 1 करोड़ रुपए प्रति मेगावाट होनी चाहिए।

कुसुम योजना में आवेदन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

महत्वपूर्ण दस्तावेज जो “कुसुम योजना” के तहत आवेदन के साथ साझा करने की आवश्यकता होती हैं —

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • रजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • जमीन की जमाबंदी की कॉपी
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट द्वारा जारी नेटवर्थ सर्टिफिकेट (विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित करने की स्थिति में)
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

यदि आप कुसुम योजना के अंतर्गत आवेदन कर रहे हैं, तो ये दस्तावेज आपके आवेदन की प्रक्रिया के लिए महत्वपूर्ण हैं, इन्हें सही और पूरी तरह से प्रस्तुत करना आवश्यक होता है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के लाभार्थी

  • किसान: यह योजना किसानों को सौर ऊर्जा प्लांट्स स्थापित करने और उनकी ऊर्जा संचयन क्षमता को बढ़ाने का मौका प्रदान कर सकती है, जिससे उनकी खेती और उत्पादन में सुधार हो सकता है।
  • किसानों का समूह: समूहों और संघों के सदस्य भी इस योजना का उपयोग करके सौर ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उनके सामूहिक उत्पादन में ऊर्जा की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकती है।
  • सहकारी समितियां: सहकारी समितियां भी इस योजना के तहत सौर ऊर्जा प्रौद्योगिकी का उपयोग कर सकती हैं और अपने सदस्यों को ऊर्जा से जोड़कर उनके उत्पादकता को बढ़ा सकती हैं।
  • पंचायत: पंचायतों के आवासी लोग भी इस योजना का उपयोग करके सौर ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं और अपने गाँवों में ऊर्जा सबलित करने का सहायक बन सकते हैं।
  • किसान उत्पादक संगठन: किसान उत्पादक संगठन भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं और उनके सदस्यों को सौर ऊर्जा का उपयोग करने का मौका प्रदान कर सकते हैं।
  • जल उपभोक्ता एसोसिएशन: जल उपभोक्ता एसोसिएशन भी इस योजना के तहत सौर ऊर्जा संचयन क्षमता को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं और पानी के संचयन में सुधार कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े – SU Swasthya Yojana Scheme 2023 Registration Details, Benefits, Health Card Bima कैसे करें

पीएम कुसुम योजना यूपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत उत्तर प्रदेश (यूपी) में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए निम्नलिखित कदम उपाय करें –

  • प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचें: सबसे पहले, आपको उत्तर प्रदेश सरकार के प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचना होगा। आप अपने वेब ब्राउज़र में “उत्तर प्रदेश कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन” सर्च करके पोर्टल पर पहुँच सकते हैं।
  • लॉगिन या पंजीकरण: पोर्टल पर पहुँचने के बाद, आपको एक खाता बनाना होगा या अपने मौजूदा खाते से लॉगिन करना होगा।
  • योजना का चयन करें: आपको “कुसुम योजना” का चयन करना होगा जो एक उपलब्ध सरकारी योजना की सूची में होगी।
  • आवेदन पत्र भरें: आपको ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना होगा, जिसमें आपकी व्यक्तिगत और पूरा परिवार का जानकारी डालनी होगी।
  • मान्यता प्राप्त करें: आवेदन पत्र भरने के बाद, आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों की प्रमाणित प्रतियां अपलोड करनी होंगी और यदि कोई अन्य जानकारी की आवश्यकता होती है, तो वह भी प्रदान करनी होगी।
  • सबमिट करें: आवेदन पत्र और दस्तावेजों को सही ढंग से भरने के बाद, आपको उन्हें पोर्टल पर सबमिट कर देना होगा।
  • प्राधिकृति की प्रतीक्षा करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति की प्रतीक्षा करनी होगी और यदि आवश्यक हो, तो आपसे अधिक जानकारी के लिए संपर्क किया जा सकता है।
  • योजना के लाभ प्राप्त करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति के बाद, आप “कुसुम योजना” के अंतर्गत योजना के लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कृपया ध्यान दें कि योजना के अनुसार आपको आवश्यकतानुसार सही दस्तावेजों को तैयार और प्रमाणित करना होगा, और आवेदन प्रक्रिया के लिए सरकारी मानदंडों का पालन करना होगा।

इसे भी पढ़े – मुख्यमंत्री मेधावृति योजना 2023, ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया (Medhavriti Yojana In Hindi)

महाराष्ट्र कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2023

महाराष्ट्र में कुसुम योजना के तहत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए निम्नलिखित कदम उपाय करें –

  • प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचें: सबसे पहले, आपको महाराष्ट्र सरकार के प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचना होगा। आप अपने वेब ब्राउज़र में “महाराष्ट्र कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन” सर्च करके पोर्टल पर पहुँच सकते हैं।
  • लॉगिन या पंजीकरण: पोर्टल पर पहुँचने के बाद, आपको एक खाता बनाना होगा या अपने मौजूदा खाते से लॉगिन करना होगा।
  • योजना का चयन करें: आपको “कुसुम योजना” का चयन करना होगा, जो एक उपलब्ध सरकारी योजना की सूची में होगी।
  • आवेदन पत्र भरें: आपको ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना होगा, जिसमें आपकी व्यक्तिगत और पूरा परिवार का जानकारी डालनी होगी।
  • मान्यता प्राप्त करें: आवेदन पत्र भरने के बाद, आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों की प्रमाणित प्रतियां अपलोड करनी होंगी और यदि कोई अन्य जानकारी की आवश्यकता होती है, तो वह भी प्रदान करनी होगी।
  • सबमिट करें: आवेदन पत्र और दस्तावेजों को सही ढंग से भरने के बाद, आपको उन्हें पोर्टल पर सबमिट कर देना होगा।
  • प्राधिकृति की प्रतीक्षा करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति की प्रतीक्षा करनी होगी और यदि आवश्यक हो, तो आपसे अधिक जानकारी के लिए संपर्क किया जा सकता है।
  • योजना के लाभ प्राप्त करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति के बाद, आप “कुसुम योजना” के अंतर्गत योजना के लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कृपया ध्यान दें कि योजना के अनुसार आपको आवश्यकतानुसार सही दस्तावेजों को तैयार और प्रमाणित करना होगा, और आवेदन प्रक्रिया के लिए सरकारी मानदंडों का पालन करना होगा।

हरियाणा कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

हरियाणा में “कुसुम योजना” के तहत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए निम्नलिखित कदम उपाय करें –

  • प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचें: सबसे पहले, आपको हरियाणा सरकार के प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचना होगा। आप अपने वेब ब्राउज़र में “हरियाणा कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन” सर्च करके पोर्टल पर पहुँच सकते हैं।
  • लॉगिन या पंजीकरण: पोर्टल पर पहुँचने के बाद, आपको एक खाता बनाना होगा या अपने मौजूदा खाते से लॉगिन करना होगा।
  • योजना का चयन करें: आपको “कुसुम योजना” का चयन करना होगा, जो एक उपलब्ध सरकारी योजना की सूची में होगी।
  • आवेदन पत्र भरें: आपको ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना होगा, जिसमें आपकी व्यक्तिगत और पूरा परिवार का जानकारी डालनी होगी।
  • मान्यता प्राप्त करें: आवेदन पत्र भरने के बाद, आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों की प्रमाणित प्रतियां अपलोड करनी होंगी और यदि कोई अन्य जानकारी की आवश्यकता होती है, तो वह भी प्रदान करनी होगी।
  • सबमिट करें: आवेदन पत्र और दस्तावेजों को सही ढंग से भरने के बाद, आपको उन्हें पोर्टल पर सबमिट कर देना होगा।
  • प्राधिकृति की प्रतीक्षा करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति की प्रतीक्षा करनी होगी और यदि आवश्यक हो, तो आपसे अधिक जानकारी के लिए संपर्क किया जा सकता है।
  • योजना के लाभ प्राप्त करें: आपके आवेदन की प्राधिकृति के बाद, आप “कुसुम योजना” के अंतर्गत योजना के लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

पीएम कुसुम योजना कब शुरू हुई? (Start Date)

पीएम कुसुम योजना की शुरुआत भारत सरकार द्वारा 17 मई 2018 को की गई थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य सौर ऊर्जा के सदुपयोग को बढ़ावा देना और किसानों को सौर ऊर्जा संसाधनों का लाभ दिलाना है। इसके तहत सौर पंप्स, सौर उर्जा संयंत्र, और सौर उर्जा संचयन समाग्री प्रदान की जाती है ताकि किसान अपने कृषि और पानी संचयन के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग कर सकें।

इसे भी पढ़े – एमपी लाडली बहना आवास योजना 2023: Form PDF, List, Last Date & Online Apply

कुसुम योजना में अपना नाम कैसे देखें?

कुसुम योजना” में अपना नाम देखने के लिए निम्नलिखित कदम उपाय करें –

  • प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचें: सबसे पहले, आपको उत्तर प्रदेश सरकार के प्राधिकृत पोर्टल पर पहुँचना होगा।
  • लॉगिन या पंजीकरण: अगर आपके पास पोर्टल पर खाता है, तो आप अपने खाते में लॉगिन कर सकते हैं, अन्यथा आपको एक खाता बनाना होगा।
  • योजना के अंतर्गत जाएं: पोर्टल पर लॉगिन करने के बाद, आपको “कुसुम योजना” या उसकी सम्बंधित योजना के अंतर्गत जाने का विकल्प मिलेगा।
  • नाम की खोज करें: आप अपने नाम की खोज करने के लिए अपने पारिवारिक और व्यक्तिगत जानकारी का उपयोग करके खोज कर सकते हैं।
  • नाम की पुष्टि करें: जब आप अपना नाम खोज लेते हैं, तो आपको दिए गए विवरण की पुष्टि करें।
  • नाम का स्थिति देखें: जब आपका नाम पुष्टि होता है, तो आप देख सकते हैं कि आपका नाम किसी योजना के तहत शामिल है या नहीं।

कृपया ध्यान दें कि आपको सही और पूरी तरह से प्रमाणित जानकारी का उपयोग करना होगा, ताकि आप अपना नाम सही तरीके से देख सकें।

कुसुम योजना की पात्रता PDF

जो भी प्रधानमंत्री कुसुम योजना के पात्र लाभार्थी हैं वह कुसुम योजना की पात्रता पीडीएफ डाउनलोड करना चाहते हैं उनके लिए बता दे कि वह नीचे लिंक पर क्लिक करके पात्रता को पीडीएफ फॉर्मेट में डाउनलोड कर सकते हैं और उसे पात्रता सूची में अपना नाम देख सकते हैं.

यहाँ क्लिक करें

प्रधानमंत्री कुसुम योजना आधिकारिक वेबसाइट

पत्र किस और लाभार्थी पीएम कुसुम योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपनी समस्या या फिर ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं वह नीचे लिंक पर क्लिक करके डायरेक्ट आधिकारिक वेबसाइट तक पहुंच बना सकते हैं.

कुसुम योजना टोल फ्री नंबर

कुसुम योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने या फिर अपनी समस्या दर्ज करने के लिए कुसुम योजना टोल फ्री नंबर (1800 180 0005) पर कॉल करके सारी जानकारी को प्राप्त कर सकते हैं.

निष्कर्ष

प्रधानमंत्री कुसुम योजना भारत सरकार की प्रक्रिया है जो किसानों को सौर ऊर्जा संसाधनों का उपयोग करके उनकी खेती और जीवनक्रियाओं को सुधारने का मौका प्रदान करती है। इस योजना के तहत सौर पंप्स और सौर ऊर्जा संयंत्रों की सब्सिडी प्रदान की जाती है ताकि किसान अपनी कृषि में ऊर्जा की बचत कर सकें। यह योजना कृषि क्षेत्र को सुस्ताईनेबल और ऊर्जा-स्वतंत्र बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।

अधिक पढ़े यहाँ क्लिक करें
होमपेज पर जाये यहाँ क्लिक करें

Leave a comment